फेसबुक वॉल

न कोई नज़्म है

न कोई इश्तिहार ही
ये दीवार भी
मेरे दिल की तरह
खाली ही है
नज़दीक आकर देखो तो
शायद कुछ महीन दरारें
दिख भी जाएँ
दिल में भी
और दीवार में भी…

ये पोस्ट औरों को भेजिए -

2 thoughts on “फेसबुक वॉल”

Leave a Reply to Chakresh Surya Cancel reply