दर्द का रहस्य

​दर्द कहीं नहीं जाता बस वहीं रहता है हाँ.. उसका अहसास नहीं होता जब कोई … Read more

रिवाज़

औरतों को आज़ादी है पसंद करने की और लेने की भी लेकिन सिर्फ़ घर के … Read more

हम अपना ग़म ठीक से कह नहीं पाएवो आकर चले गए हम अलविदा कह नहीं … Read more

हवा के सिपाही

छोटे-छोटे सूखे मुड़े हुए कुचले हुए पत्ते धरती पर बेजान पड़े अचानक जी उठते हैं … Read more

Intensity

इस मर्तबा दिल ही नहीं भरोसा भी टूटा है इस मर्तबा दर्द भी ज़्यादा है … Read more

नाटक

तुम मेरे थे ही नहीं कभी और होने का नाटक करते रहे बेबाक़ी से झूठ … Read more

ग़लती

मैं… मैं ग़लतियों का पुलिंदा हूँ और ख़ुदकी की ग़लती किसे दिखती है अक्सर नहीं … Read more

रम से हम तक

रम को हम से अच्छा कोई नहीं जानता, हमको हमसे अच्छा कोई नहीं जानता।