Self Obsessed !

मुझे किसी और अजूबे की ज़रूरत नहीं,

आज-कल मैंने खुद ही अपनी नींद उड़ा रक्खी है …

ये पोस्ट औरों को भेजिए -

1 thought on “Self Obsessed !”

  1. रब ने तो भेजे थे
    गमो ख़ुशी के पास ,
    मैं काँटों को चुनने लगा रहा,
    उन्हों गुलों करीब आशियाना बना लिए।
    …. प्रदीप यादव

    Reply

Leave a Comment