मंज़र

कहते हैं आँखों देखा भी यकीन के काबिल नहीं होता, 
ये कहकर खुदको तसल्ली देना ठीक है…
पर ज़रूरत क्या है देखने की,
जब देखना ही तकलीफ देने लगे…

ये पोस्ट औरों को भेजिए -

1 thought on “मंज़र”

Leave a Reply to blog of the month (ETIPS_BLOG) Cancel reply