तुम्हारी छठी बरसी

ये तुम्हारा प्यार नहीं तो और क्या है,
कि जिस दिन तुम गए,
उस दिन को भी,
बरसों बाद,
यादगार बनाने के लिए,
तुमने छेड़ रक्खे हैं शगूफ़े,
मैं पेशो-पेश में हूँ कि,
आज की खुशी मनाऊं,
या बरसों पहले के तुम्हारे जाने का गम,
यकीन से कहता हूँ कि,
अपने छोटे भाई को,
ऐसी मुश्किल में डालकर,
तुम मुस्कुराते ज़रूर होगे…है न भैय्याजी!

In the memory of Late Mr. Pushphar Singh Surya “My elder brother” 
(30 June 1983- 8 December 2006)

ये पोस्ट औरों को भेजिए -

3 thoughts on “तुम्हारी छठी बरसी”

  1. प्रिय बंटू,
    मुझे याद कर तुम जब भी आँखे नम करते हो, सच मानो मेरे आशीर्वादों की श्रंखला सी चल पड़ती हैं, पर जब तुम मुस्कुरा कर घर वालों का ख्याल रखते हो तो तुम्हारी प्रेम से रची बसी यह मुस्कान, मुझे श्रन्धांजली देती है ।
    सूक्ष्म शरीर मैं बैठा मैं तुम्हें ढेर सारा प्यार भेज रहा हूँ , और कामना करता हूँ की लक्ष्यों के प्रति तुम उतने स्नेही बनो जितने की मेरे लिए तुम्हारे मन के कोनों मैं श्रधा है ।
    असीम प्यार के साथ ढेर सारी शुभकामनाएं हों तुम्हें जन्मदिन की …..

    तुम्हारा

    भैय्याजी (स्वर्गिक)

    प्रेषक …. एक और भाई प्रदीप

    Reply
  2. A Very Happy Birth Day To You….
    Dear Chkresh Surya SUFI ….

    यूं घुलता जा रहा है सोना सा, तेरी मेहनत के पसीने में ,
    बरकत है लाजमी उसके लिए खेले जो मौजों के सीने से । By ….. प्रदीप यादव

    Reply

Leave a Comment