अफवाहें!

अफवाहों को बाज़ार गर्म है,
तुम अपना दामन बचा कर चलना,
कहीं ज्यादा तपिश से आग न पकड़ ले!

ये पोस्ट औरों को भेजिए -

1 thought on “अफवाहें!”

Leave a Reply to Udan Tashtari Cancel reply