वो रात!

उसकी सोती हुयी साँसों में भी सरगम सुनायी देती है,
खुदा ने वक्त निकालके गढ़ी हो वो रुबायी लगती है,
पूरी रात मैं उसे ताकते रहा और सुबह हो गयी,
ये बात पूरी तरह सच है पर एकदम करिश्माई लगती है …

ये पोस्ट औरों को भेजिए -

1 thought on “वो रात!”

Leave a Reply to Udan Tashtari Cancel reply