Intensity

इस मर्तबा दिल ही नहीं भरोसा भी टूटा है इस मर्तबा दर्द भी ज़्यादा है … Read more

नाटक

तुम मेरे थे ही नहीं कभी और होने का नाटक करते रहे बेबाक़ी से झूठ … Read more